Latest

स्वच्छ मधुबनी मिशन का लोगो को है इन्तजार ,सेल्फी विथ कचरा युक्त सराय पोखर


कहते है जिंदगी चार दिनों की है और लोगो की चाहत रहती है यह चार दिनों की जिंदगी सकून से भरा हो ,खुशहाली से भरा हो साफ़ सुथरी स्वक्ष हो ! स्वक्षता से याद आया मधुबनी में एक तालाब है आप नेता मुकेश पँजियार इस तालाब को सराय पोखर कहते है ! यह तालाब यानी सराय पोखर पूर्व मंत्री राजकुमार महासेठ एवं वर्तमान विधायक समीर कुमार महासेठ के घर के सामने है ! यह तालाब क्या है कचरा स्थली है पुरे शहर का कचरा यही जमा है ! लेकिन मधुबनी में जिस तेजी से जमीन का भाव बढ़ा है यह कचरा भी सोना हो गया है !स्थानीय लोगों के अनुसार तालाब पहले सरकारी था लेकिन जैसे ही यह सोना बना इस तालाब के कई मालिक बन गए कई कागजात तैयार हो गए ! कागज़ के साथ उपस्थित दावेदारों में श्रवण पूर्वे जो फिलहाल भाजपा के कोषाध्यक्ष है और समीर कुमार महासेठ सामने आये ! 
 

हालांकि स्थानीय लोगो के विरोध के बाद विधायक समीर कुमार महासेठ तो बैकफुट पर चले गए लेकिन सरवन पूर्वे मैदान में टिके हुए है ! अब कहानी पर चलते है दरअसल सरकार ने तालाब संरक्षण की दिशा में पहल किया है और सरकारी तालाब के अलावे निजी तालाब के संरक्षण की जिम्मेवारी भी तय किया गया है ! अब भला सरकारी योजना का फायदा कौन नहीँ उठाना चाहता है, और जब तालाब सफाई का ऐलान हुआ तो स्थानीय लोगो ने सराय पोखर की गंदगी को देखते हुए साफ़ सफाई का मामला उठाया ! नगर परिषद ने जैसे ही सफाई के लिये हाथ बढ़ाया तो दावेदार ने आपत्ति जतायी भला कचरा रूपी सोने को कोई हाथ लगाए यह उसे कैसे बर्दास्त होनेवाला था, लेकिन सफाई जरुरी था इसलिए प्रशासन ने बिच का रास्ता निकाला और साफ़ सफाई का आदेश तो दिया लेकिन साथ ही एक सर्त भी लगा दिया ! सर्त यह है की तालाब की सफाई हाथों मजदूर के द्वारा किया जायेगा, वह भी अधिकतम चार से आठ मजदुर मिलकर कचरा से भरे तालाब को साफ करेंगे ! अब भला लाखों टन कचरा चार-आठ मजदुर से हटने से रहा ! तो फिलहाल पिछले एक महीने से हर रोज सफाई के नाम पर सराय पोखरा से एक आध ट्रेक्टर कचरा को निकालकर प्रशासन अपनी जिम्मेवारी पूरी कर रहा है और स्थानीय लोग अपने चार दिन की जिंदगी को सकून से जीने के लिए स्वक्ष मधुबनी मिसन का इन्तजार कर रहे है ! 

मुकेश पँजियार खिलौना रूपी जेसीबी से सेल्फी विथ जेसीबी-सेल्फी विथ जेसीबी खेल रहे है लेकिन देखना दिलचस्प रहेगा मुकेश पँजियार कब तक इस सराय पोखर को कचरा मुक्त देख पाएंगे !

No comments