Latest

एक साल से बोर्ड का चक्कर लगा रही है यहां की छात्राएं, परीक्षा देने के बाद भी नहीं मिला रिजल्ट


यु तो शिक्षा विभाग का गठन शिक्षा को बढ़ाने के लिए हुआ है और इस विभाग का उद्देश्य है शिक्षा का विकाश से समाज में सुधार होगा लेकिन विभाग है की सुधरने का नाम नहीं ले रहा है कभी टॉपर घोटाला तो कभी फर्जी बहाली घोटाला सामने आ जाता है ! और सरकार के इस विभाग के इसी घोटाले का नतीजा है की मुख्यमंत्री जी के बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान को अंगूठा दिखाते हुए पचास लड़कियों के भविष्य को अंधकार में डाल दिया है ! विभाग के उदासीनता और लापरवाही के कारण पचास छात्राओं का भविष्य अन्धकार में नजर आ रहा है पिछले एक वर्ष से ये छात्राये स्कूल और इंटरकाउंसिल के बिच चक्कर काट रही है लेकिन रिजल्ट अधर में लटका हुआ है उन्हें ना फेल किया जा रहा है ना पास किया जा रहा है ! शिक्षा विभाग का यह घोटाला घोघरडीहा थाना क्षेत्र के अनपूर्णा बौआ झा प्लस टू उच्य विधालय का है ! 

विधालय में 51 छात्राये वर्ष 2015 -2016 में इंटर की परीक्षा दी थी जिसमें पचास छात्राये सभी विषय में उपस्थित भी हुई थी लेकिन जब रिजल्ट आया तो पचास छात्राओं को होम साइंस में अनुपस्थित दिखा कर रिजल्ट पेंडिंग कर दिया गया है ! छात्राओं को ना फेल किया जा रहा है और ना ही पास किया जा रहा है ! रिजल्ट के उहापोह में छात्राये स्कूल के कई चक्कर काट चुकी है लेकिन कोरा अस्वासन के शिवा कुछ नहीं मिल रहा है ! छात्राये बताती है हमने कई बार स्कूल आ कर रिजल्ट जानना चाहा है लेकिन हर बार सिर्फ अस्वासन मिलता है कहते है रिजल्ट आ जाएगा ! मैं आगे पढ़ना चाहती हु लेकिन पढ़ नहीं पा रही हु ! इस संबंध में एक अभिभावक श्याम यादव ने बताया मैं अपने गांव से कुछ छात्राओं को लेकर हर रोज परीक्षा दिलाने आया करता था लेकिन रिजल्ट का कोई अता पता नहीं चल रहा है ! इस बाबत इंटरकाउंसिल भी गया लेकिन वहा भी कोरा अस्वासन दिया गया ! स्कूल के प्रधानाचार्य ललित सिंह ने बताया की जब हमें रिजल्ट पेंडिंग होने की जानकारी मिली तो हमने इंटर काउन्सिल को सभी जरुरत के कागजात उपलब्ध करा दिया लेकिन फिर भी रिजल्ट प्रकाशित नहीं किया गया है !ये सभी छात्राये परीक्षा के दौरान उपस्थित थी !विभाग हर बार जांच की बात करता है लेकिन पता नहीं क्यों जांच नहीं किया जाता है ! सभी बच्चो का भविष्य अंधकार में नजर आ रहा है !

No comments