Latest

मीटर रीडिंग नहीं होने के कारण उपभोक्ताओं को भेजा जा रहा है अधिक बिजली बिल



बिन्देश्वर चौधरी : अंधराठाढी स्थानीय विद्युत आपूर्ति प्रशाखा के अधीन 50 फीसदी उपभोक्ता मीटर से वंचित है. मीटर से वंचित उपभोक्ताओं को मनमाने ढंग से बिजली का बिल भेजा जा रहा है. अंधराठाढी विद्युत आपूर्ति प्रशाखा में तकरीबन उन्नीस हजार उपभोक्ता हैं. जिसमें 2700 उपभोक्ता लोकल फीडर के अधीन हैं. शेष उपभोक्ता दुसरे फीडर से जुड़े हुए हैं. अब तक सिर्फ आधे उपभोक्ताओ के घरों में मीटर लगाया गया हैं. जिसके कारण जिनके घरों में मीटर नहीं लगे है उनको कम बिद्युत उपभोग के बाद भी अधिक बिल राशि का भुगतान करना पड़ता है. शेष उपभोक्ता अधिक विद्युत खपत के बावजूद भी कम बिल राशि भुगतान करते हैं. कार्यालय सूत्रों के मुताबिक इस विद्युत आपूर्ति प्रशाखा में चार स्वीच बोर्ड ऑपरेटर, तीन लाईन मेन और एक कनिय अभियंता कार्यरत हैं. अंधराठाढी उत्तर, दक्षिण पंचायत के अलावे गौड़ अंधरा, रखवारी , मरूकिया, शिवा, देवहार, जलसेन, डुमरा, कुल्हडिया, सर्रा पंचायते हैं. खानगी कर्मचारी के जिम्मे मीटर रीडिंग का काम है. उपभोक्ताओं का आरोप है की मीटर रीडिंग का काम फ्रेंचाइजी अपने अधीन रखकर कुछ खानगी लोगो से कराते है. जिसमें शिकायत यह भी आती है की वह मीटर रीडिंग का कार्य कम एवं अवैध वसूली का काम ज्यादा कर रहे हैं.  विभागीय निर्देश है कि मीटर रीडिंग का काम फ्रेंचाइजी कर्मी स्वयं करेंगे.

एक फ्रेंचाइजी के जिम्मे 2700 उपभोक्ता है. प्रखंड मुख्यालय के दोनों पंचायत क्रमशः अंधराठाढी उत्तर और दक्षिण  में 2700 सौ उपभोक्ता है. उनके बिल  वसूली मीटर रीडिंग आदि रखना एक कर्मियो से संभव नहीं है. मजबूरन खानगी कर्मी का सहारा लिया जाता है. 

धड़ल्ले से की जा रही बिजली की चोरी
विभागीय सर्तकता और सख्त कानून के बाद भी गांव देहात में धड़ल्ले से बिजली की चोरी हो रही है. लोग टोका फसा कर अपने घरों को रौशन कर रहें हैं.

लाईनमेन की है कमी
उपभोक्ताओं के अनुपात में लाईन मेन की कमी है. अनुबंध के आधार पर तीन लाईनमेन ही कार्यरत है. इनके जिम्मे लाईन आदि को दुरूस्त रखना है.
मधुबनी मीडिया की खबरों के लिए पेज Like करें.


कहते है अधिकारी
कार्यपालक अभियंता संजय कारक ने बताया कि सभी उपभोक्ताओं को हर हाल में मीटर लगाना आवश्यक है. बिल बकाया वाले उपभोक्ताओं को डिसकनेक्सन कर बकाया वसूला जायेगा. खानगी कर्मी से किसी भी तरह के कार्य कराना अनियमितता है. शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी. 

No comments