Latest

नवालिक बच्चे बच्चियों का जबरन विवाह करा दिया गया ,चौकीदार ने मुख्य भूमिका निभाया लेकिन दो हफ्ता तक थानेदार को भनक नहीं लगा


न्यूज़ डेस्क ,पटना 
राम शरण साह ,मधुबनी  
लदनियां के एक गांव में स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं चौकीदार द्वारा नाबालिग जोड़े की जबरन शादी कराने का मामला सामने आया है। शादी का विडियो वायरल होने के बाद पुलिस और प्रशासनिक महकमे में हडकंप मच गया है। एसपी दीपक बरनवाल ने इससे शामिल लोगों को चिन्हित कर उसके खिलाफ कड़ी कारवाई करने का निर्देश दिया है। लदनियां पुलिस ने इस मामले में चौकीदार समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है बाकी लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। आम लोगों में चर्चा है कि शादी कराने में शामिल लोगों ने केवल कानून का उल्लंघन किया है बल्कि बाल विवाह उन्मूलन के  लिए नीतीश सरकार द्वारा चलाए जा रहे मुहिम को भी खुली चुनौती दे डाली है। यह बाल विवाह रचाने में वैसे लोग भी शामिल थे जो बाल विवाह दहेज उन्मूलन के लिए बनी मानव शृंखला में हिस्सा लेकर कस्में खाई थी। घटना 13 मार्च की है। गांव के एक कलमबाग में जनप्रतिनिधियों एवं चौकीदार ने  शादी की रस्मे पूरी करायी। इतना ही नहीं दोनों का सादा पेपर पर निशान भी लिया गया। विडियो में नाबालिग दुल्हा दुल्हन सहमे, रोते नजर आ रहे हैं। सबसे आश्चर्य की बात यह कि थानेदार व प्रखंड के अधिकारियों को भनक तक नहीं लगी। एक सप्ताह बाद विडियो वायरल हुआ तब कारवाई शुरू की ! सवाल बड़ा है क्या थाना प्रभारी का सुचना तंत्र इतना कमजोर है की उसे इतनी बड़ी घटना की जानकारी नहीं मिली, या थाना प्रभारी को मामले की जानकारी थी उन्होंने कारवाई करना उचित नहीं समझा ? इस सवाल के जवाव में मधुबनी पुलिस अधीक्षक दीपक वरनवाल ने बताया की हमलोगो का मुख्य सुचना तंत्र चौकीदार है लेकिन इस मामले में चौकीदार शामिल है इसलिए उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है एवं उसके सस्पेंसन के लिए जिला पदाधिकारी को भेजा गया है ! लेकिन फिर सवाल यह है की क्या चौकीदार को भी संभालने में थाना प्रभारी असक्षम है, क्या चौकीदार उन्हें रिपोर्ट नहीं करता है ? 

No comments