Latest

मधुबनी मीडिया के खबर का असर चार शिक्षक हुए बाहर सत्ताईस के बेतन पर रोक

madhubanimedia.com के खबर का असर फर्जी तरीके से बहाल किये गए चार शिक्षक को विभाग ने अपनाने से मना कर दिया है साथ ही जिला शिक्षा पदाधिकारी ने उन सत्ताईस शिक्षक के बेतन पर तत्काल लगाया रोक लगा दिया है जिनके बहाली के संबंध में शिकायत मिला था madhubanimedia.com ने खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था जिला शिक्षा पदाधिकारी राजेंद्र कुमार मिश्र ने प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी विजय चंद्र भगत को निर्देश दिए है की जबतक उन शिक्षकों का कागजात जांच नहीं कर लिया जाता है तबतक उनका बेतन रोका जाय ! यदि सभी कागजात सही पाए जाते है तब ही उनका बेतन को रिलीज किया जाय !

मधुबनी मीडिया की खबरों के लिए पेज Like करें.


इनदिनों शिक्षा विभाग में बड़े पैमाने पर गड़वड़ी सामने आ रहा है ! कभी फर्जी टॉपर तो कभी फर्जी तरीके से पास और फेल करने का खेल चल रहा है और इसबार मधुबनी के हरलाखी प्रखंड के पिपरौन पंचायत में बैकलॉग पर बहाली करने का मामला सामने आया है ! मामला का उद्भेदन उस वक्त हुआ जब एक पंचायत समिति के सदस्य ने प्रखंड के मीटिंग में मामला को उठाया आखिर बैक लॉग में बहाली कैसे हुआ इस सवाल के जबाब में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी ने अपना पल्ला झारते हुए कहा हमें सुचना मिला था की प्रधानाध्यापक ने शिक्षक का बहाली कर लिया है जिसे हमने निकाल दिया है ! लेकिन सवाल बड़ा है आखिर बिना किसी वरीय पदाधिकारी के सुझाव के BEO ने कैसे निर्णय ले लिया और उक्त प्रधानाध्यापक पर फर्जीवाड़ा का मामला दर्ज क्यों नहीं कराया गया है ! हमने जब इस संबंध में जिला शिक्षा पदाधिकारी से मामला जानना चाहा तो उनका जवाव प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी से इतर मिला है ! जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया की वे चार शिक्षक फर्जी तरीके से बहाल होकर स्कूल योगदान करने के फिराक में थे लेकिन उनका योगदान नहीं लिया गया है ! अब सवाल यह है क्या शिक्षा विभाग में पदाधिकारियों का कोई अहमियत नहीं है ?आखिर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी क्यों मामला को दवाना चाहते है ? और सवाल यह भी है की दोनों पदाधिकारी का जवाव अलग अलग क्यों है ?

No comments