झंझारपुर के ADJ के ऊपर मामला दर्ज , तत्कालीन घोघाडीहा के थानेदार गोपाल कृष्ण यादव के बयान पर दर्ज हुआ मामला

 


न्यूज़ डेस्क पटना

नवंबर के महीने में जब हल्की हल्की ठंड पड़ रही थी तभी अचानक से प्रशासनिक महकमे में आग लग गयी ! दरअसल मामला भी कुछ ऐसा ही था। जिस जुडिशरी के भरोसे समाज जीता है जिस खाकी का दामन को देखकर गुंडे बदमाशों की नींद हराम हो जाती है और समाज का दवा कुचला व्यक्ति भी सीना तान कर चलता है वह जुडिशरी और पुलिस आपस में ही उलझ गये थे। आरोप लगा घोघडीहा के तत्कालीन थानेदार गोपाल कृष्ण यादव पर! बताया गया गोपाल कृष्ण यादव ने ADJ के चैंबर में घुसकर मारपीट की साथ ही सर्विस रिवाल्वर उनके ऊपर तान दिया और हत्या का प्रयास किया ! जज को पिटा और गालियाँ दी  आरोप लगाने वाले का नाम ADJ अविनाश कुमार सिंह बताया गाया! अविनाश कुमार सिंह झंझारपुर में एडीजे है। फिलहाल विधि शाखा के अध्यक्ष है ! एडीजे अविनाश कुमार सिंह की पहचान अनोखे फैसलों को लेकर किया जाता रहा है ! उन्होंने छेड़खानी के आरोपी पेशे से धोबी को लड़कियों के कपड़े धोने की सजा तो कभी एक शिक्षक को 6 महीने तक मुफ्त में पढ़ाने की सजा किसी को पेड़ लगाने की सजा ऐसे कई अनेकों अनोखे फैसले के कारण ही उन्हें कोर्ट सुनवाई का हाई कोर्ट ने रोक लगा रखा है। उन्हें उस वक्त थानों का निरीक्षण करने का पावर सौंपा गया था। वही थानेदार गोपाल कृष्ण यादव तत्कालीन एसपी के आवास पर उनके साथ महीनों गुजारे थे। हनक तो उन्हें भी थी। जज साहब के चेंबर में हुई मारपीट मामले में दोनों का ही अपना अपना पक्ष था और इसी कारण घटना के दिन देर रात तक एफआईआर के लिये हंगामा भी चलता रहा था। कई बड़े अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद एफ आई आर दर्ज किया गया था। महज कुछ महीने पहले जज अविनाश कुमार सिंह ने मधुबनी के तत्कालीन एसपी के बारे में लिखा था कि उन्हें कानून का इल्म नहीं है और उन्हें ट्रेनिंग लेनी चाहिए ! उन्होंने UPSC को पत्र लिखा था कि उन्हें हैदराबाद भेजकर कानून का फिर से पाठ पढ़ाया जाए। जज के चेंबर में उस दिन क्या हुआ था यह तो चंद लोगों को ही पता है लेकिन जज अभिनाश कुमार सिंह के एफआईआर के अनुसार यह लड़ाई की यह एक बड़ी वजह थी और इसी के लिए जज के द्वारा दर्ज कराया गया f.i.r. में तत्कालीन एसपी डॉ सत्यप्रकाश का भी नाम दर्ज किया गया। अब 7 महीने बाद थानेदार गोपाल कृष्ण यादव के उसी फर्द बयान के ऊपर में मामला दर्ज किया गया है जो डीएमसीएच में गोपाल कृष्ण यादव ने लिखाई थी। आखिरकार लंबे इंतजार के बाद एडीजे अविनाश कुमार सिंह के ऊपर में मामला दर्ज कर लिया गया है। सब कुछ पहली बार हुआ कि किसी एसपी के ऊपर में उसी के थाने में मामला दर्ज किया गया और अब एक जज के ऊपर उसी के ज्यूडिशली क्षेत्र में मामला दर्ज किया गया है!

Comments

Popular posts from this blog

कबड्डी टूर्नामेन्ट का होगा आयोजन :खेल

मजनू मुक्त समाज बनाने में जुटा है हरलाखी विधानसभा : सामाजिक

लव सेक्स और धोखा, भाजपा विधायक के भाई पर आरोप