Latest

रालोसपा विधायक सुधांशु शेखर का धरने पर बैठना बना कौतूहल का विषय


रालोसपा विधायक सुधांशु शेखर को अभी भी विश्वास नहीं हो रहा है की वह गठबंधन में है और उनके ही गठबंधन की सरकार है. वैसे तो विधायक जी का विवाद के साथ चोली दामन का  पुराना साथ है, लेकिन फिर भी कभी कभी ये विवाद में नहा लेते है.
ताजा मामला हरलाखी विधानसभा से रालोसपा के एकलौते विधायक सुधांशु शेखर से जुड़ा है. विधायक जी 31 अगस्त को साहर घाट के नेताजी चौक पर धरना पर बैठ गए और साथ ही उनके कुछ समर्थको ने सड़क जाम कर दिया. जाम भी कुछ ऐसा वैसा नहीं बल्कि घंटो वाला जाम जो सात घंटे तक चला. हुआ यूं की विधायक जी सुबह के आठ बजे धरना पर बैठ गए और उन्होंने मांग किया की जब तक डीएम स्वय यहां आकर उनकी बात नहीं सुनते है तब तक वे धरना अनवरत जारी रखेंगे. अब इस बात की जानकारी अधिकारियों को हुआ तो सारे अधिकारी ने विधायक जी से किनारा कर लिया डीएम साहब तो दुर बीडीओ भी बड़ी मुश्किल से शाम के तीन बजे विधायक से मिलने पहुंचा तब तक विधायक जी का समर्थक कम होने शुरू हो चुके थे. डीएम को धरनास्थल पर बुलाने की जिद पड़ 7 घन्टों से डंटे विधायक जी थक गए थे इसलिए वे झटपट अपना धरना तोड़ने में ही भलाई समझे. विधायक जी के धरना टूटने पर सड़क पर कतारो मे खड़े वाहन चालक ने राहत का सांस लिया और आगे के सफर के लिये निकले. 

अब मामला भी जान लीजिये आखिर यह धरना हुआ क्यों ?
दरअसल विधायक जी ने BDO को स्टेट हाइवे तोड़कर साठ परिवार के बस्ती का पानी निकासी का आग्रह किया पर बीडीओ इस कार्य को करने में असक्षमता दिखाया और बस इस बात से नाराज विधायक जी बीच चौराहे पर धरना पर बैठ गए. विधायक जी इतने से नहीं रुके उन्होंने कहा यह जनआंदोलन मैनें इसलिए छेड़ा है क्योंकि यह अधिकारी कोई काम नहीं करना चाहते है ये पिछले सरकार में आये हुए है. और जब उनसे यह पूछा गया आप सत्ता में है आखिर धरना क्यों ? तो उन्होंने कहा की, जल्दबाजी में मै यहाँ धरना दिया हूं ताकि पानी निकासी की समस्या का समाधान हो जाए. फिर विधायक जी ने कहा सत्ता किसी का हो मै जनता के साथ हूं और काम नहीं करने पर अधिकारियों के विरुद्ध धरना देता रहूंगा.

मधुबनी मीडिया की खबरों के लिए पेज Like करें.


अब विधायक जी को कौन समझाए यदि धरना ही देना था तो जनता का वोट लेकर विधायक क्यों बने ? और विधायक बने तो बने NDA के गठबंधन में शामिल क्यों हुए ? विधायक जी आप अपनी बातों को विधानसभा मे क्यों नहीँ रखते है ?  विधायक ने बिना इजाजत का धरना दिया और घंटो सड़क जाम रखा पर वह यह भुल गए की यह वही अधिकारी है जो उनकी इस गैरकानूनी हरकत के लिए किसी प्रकार का मामला दर्ज नहीं कर रहे है.

No comments