Latest


न्यूज़ डेस्क 
बाढ़ के ख़त्म होने के बाढ़ स्वस्थ सम्बन्धी समस्याओं का फैलना स्वाभाविक है। खास कर उन क्षत्रों में जो नीचे है और जहाँ जल जमाव अधिक दिनों तक बनी रहती है । इस समय मधुबनी जिला में वर्षा रुकी हुई है मगर जल जमाव में कोई खास परिवर्तन नहीँ आया है ।स्वास्थ्य विभाग के अनुसार वो किसी भी स्थिति से निबटने के लिये पूरी तरह से तैयार है और इस ओर उन्होंने कई क़दम भी उठाये हैं । इस वक्त स्वास्थ विभाग की टीम में चिकित्सकों की संख्या अनियमित 24 और नियमित 101 हैं । इस के अलावा A ग्रेड कर्मचारी नियमित 60 और अनियमित 3 है ।ANM की संख्या अनियमित 212 और नियमित 321 है । सिविल सर्जन श्री अमर नाथ  झा के अनुसार इस  बड़े क्षेत्न के लिये यह संख्या पर्याप्त नहीँ है ,  और उन्होंने स्टेट हेल्थ सोसाइटी से 5 और चिकित्सकों की माँग की है । इन्हे  वे खास बाढ़ पीडित स्थानों पर भेजना चाहते हैं । श्री झा के अनुसार जिन बीमारियों के फैलने की सम्भावना अधिक हैं वो है डायरिया ,वायरल डिजीज , चर्म रोग इत्यादि ।इस के अलावा सर्प दंश कुत्ते इत्यादि के काटने की घटना भी बढ़ सकतीं है ।श्री झा ने आगे बताया की उनके विभाग के पास अभी के हालात से निबटने के लिये दवाइयों की कोई कमी नहीँ है ।उनके अनुसार सभी BHC को पर्याप्त मात्रा में दवाइयों के साथ जानवरों के काटने की दवाई भी भेज दी गयी है । खास कर बाढ़ वाले स्थानों में अधिक परिमाण में दवाइयों भेजी गयी है ।उन्होंने आगे बताया कि उनका विभाग स्थिति पर कड़ी नज़र रखे हुए है और समयानुसार सभी ज़रूरी क़दम उठाने के लिये तैयार है ।

No comments